Agriculture Business Idea : 1 एकड़ जमीन में इसकी खेती करने से होती हैं 2 लाख रूपये तक की कमाई, जानिए खेती करने का तरीका

गुलाब का फूल सभी को पसंद होता हैं, जिस भी चीज में फूलों की आवश्यकता होती हैं, लोग गुलाब का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं. इसमें कई तरह के औषधीय गुण भी पाए जाते हैं, जो स्ट्रेस एवं डिप्रेशन से आराम देते हैं. इसका इस्तेमाल विभिन्न इवेंट्स में भी किया जाता है. यहाँ तक कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस तरह के फूल की बिक्री बहुत ज्यादा होती हैं, यह विभिन्न रंगों में पाया जाता है और सभी रंग लोगों को बहुत पसंद होते हैं. यदि आप एक किसान है और खेती करते हैं. तो खेती करने के लिए इस प्रोडक्ट का विकल्प चुन सकते हैं. जी हां गुलाब की खेती आपको दे सकती हैं बेहतर मुनाफा कमाने का अवसर, इस लेख में हम आपको गुलाब की खेती करने के बारे में पूरा चरणबद्ध तरीके से जानकारी दे रहे हैं.

Rose Farming Business in Hindi

गुलाब की खेती कहाँ होती है

गुलाब की खेती किसानों के लिए सबसे ज्यादा मुनाफा वाला बिज़नेस है. भारत में यह सबसे ज्यादा कर्नाटका, तमिल नाडू, बिहार, उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, हरियाणा, गुजरात, पंजाब, जम्मू एवं कश्मीर, मध्यप्रदेश और आंध्रप्रदेश आदि राज्यों में की जाती है.

Agriculture Business Ideas : गांव में रहने वाले युवा कर सकते हैं कृषि संबंधित ये 5 बिज़नेस, और कमा सकते हैं अच्छा खासा पैसा.

गुलाब की खेती के लिए मौसम की स्थिति

गुलाब के फूल उमस वाले मौसम में नहीं बढ़ते हैं लेकिन गर्म मौसम में यह बढ़ सकते हैं. 10 डिग्री से कम टेम्प्रेचर फूलों को प्रभावित करता है. गुलाब के पौधों को सूर्य की किरणों के सामने रखना होता है. छाया में यह नहीं पनप पाता है. अतः गुलाब की खेती करने के लिए 18 से 30 डिग्री तक का तापमान सबसे अच्छा होता है.

गुलाब की खेती के लिए मिट्टी की स्थिति

अच्छी तरह से सूची रेतीली दोमट मिट्टी कार्बनिक पदार्थों से भरी होती हैं यह गुलाब की खेती के लिए सबसे अच्छी तरह की मिट्टी होती है. मिट्टी का पीएच लेवल 6 से 7.5 के बीच होना चाहिए. गुलाब के पौधों में ज्यादा पानी भरा होने से वह खराब हो जाते हैं किन्तु इसमें कम पानी भी नहीं होना चाहिये. इसलिए आपको इसे मैनेज करना होगा. यह 200 से 300 एमएम बारिश में बढ़ सकता है. अतः इसके लिए रेतीली, लाल एवं स्लिट दोमट मिट्टी सबसे अच्छी होती है.

कुटीर उद्योग : अपनी किस्मत चमकाना चाहते हैं तो शुरू करें ये उद्योग बन जायेंगे मालामाल.

गुलाब के प्रकार

गुलाब कई प्रकार के होते हैं जिसे 3 मुख्य समूहों में बांटा गया है आप उनमें से किसी भी प्रकार के या तीनों प्रकार के गुलाब की खेती का बिज़नेस कर सकते हैं –

  • गुलाब की जाति :- इसे जंगली गुलाब भी कहते हैं. इसकी 5 पंखुडियां होती हैं और यह गहरे रंग के होते हैं. ये ठण्ड के आखिर में उगते हैं. उदहारण के लिए रोसा रुगोस, मल्टीफ्लोरा आदि.
  • ओल्ड गार्डन रोज :- ये बहुत आकर्षक एवं सुगन्धित होते हैं. ये आसानी से बढ़ जाते हैं और यह बीमारियों से बचाने के लिए भी अच्छे होते हैं ये ठण्ड में बहुत अच्छे से उगते हैं. उदहारण के लिए मोस रोज, अल्बा, सेंटीफ़ोलिया, मक्रेन्था, नॉइज़टी आदि.
  • मॉडर्न रोज :- यह बहुत ही प्रसिद्ध होते हैं ये देखने में बहुत ही रिच एवं विभिन्न रंगों के होते हैं. उदहारण के लिए हाइब्रिड टी रोजस, लैंडस्केप रोज, फ्लोरिबुंडा रोज, येलो परमेट रोज आदि और भी.

गुलाब की खेती के लिए जमीन की तैयारी

मिट्टी में पौधे लगाने से पहले उसकी अच्छी तरह से जुताई करें, जुताई एवं तुड़ाई का कार्य 4 से 5 बार करें ताकि मिट्टी अच्छी तरह से पौधे लगाने के लिए तैयार हो जाये. इसके बाद आपको 2 टन पूरी तरह से ता ठीक – ठीक खाद बना हुआ गाय का गोबर, पत्तियों का सांचा, राख, यूरिया 25 किलोग्राम और 2 किलोग्राम सुपरफॉस्फेट आदि मिट्टी में अच्छी तरह से मिलाना हैं. इसके बाद आपको लेवेलिंग प्रक्रिया करनी हैं कि आप किस तरह से पौधे लगायेंगे. इसके लिए 45 cm* 45 cm * 30 cm साइज़ होनी चाहिए. और दोनों के बीच कि दूरी 1 मीटर होनी चाहिए. और लाइन भी 1 मीटर कि दूरी में लगी होनी चाहिए. १ अकड में 7000 प्लांट लगायें जा सकते हैं. जमीन को 15 से 20 दिनों के लिए सूर्य की किरणें पड़ने दें. इसके बाद प्लांट लगाना शुरू करें.

श्रमिक या मजदूर यदि नहीं करना चाहते हैं मजदूरी, तो ये बुसिनेस करके कर सकते हैं बेहतर कमाई.

गुलाब की खेती के लिए बीज की बुवाई का कार्य 

गुलाब की खेती के लिए बीज की बुवाई 70 cm मिट्टी के अंदर डाला जाता है इसकी बुवाई का कार्य सितम्बर से अक्टूबर के महीने में किया जाता है. बुवाई का कार्य हमेशा शाम के समय में होता है. गुलाब की बुवाई बीज, कटिंग, लेयर्स और बडिंग आदि के साथ की जाती है.

गुलाब की खेती में सिंचाई का कार्य

गुलाब की बुवाई के बाद इसकि सिंचाई का कार्य होता है. आपको एक सप्ताह में 2 बार अक्टूबर से मार्च के महीने में और सप्ताह में एक बार अप्रैल से जून के महीने में यह करना होता है. बारिश में इसकी कोई आवश्यकता नहीं होती है. आपको इसकी सिंचाई का कार्य का प्रबंधन बेहतर करना होता है. यह कार्य ड्रिप सिंचाई के माध्यम से किया जाता है.

जीएसटी सुविधा केंद्र खोल कर कमायें जा सकते हैं 50 हजार रूपये प्रतिमाह, जानें कैसे करना होगा आवेदन.

गुलाब की खेती करने में उर्वरक का छिड़काव

बुवाई एवं सिंचाई के लगभग 3 महीने के बाद 8:8:16 ग्राम प्रति प्लांट एनपीके डालना होता है, यहीं उर्वरक होता है. इसके बाद इसमें प्रति एकड़ जमीन में 100 ग्राम रेज़ोम, 60 ml टीपोल एवं 100 लीटर पानी मिलाकर इसका छिड़काव करना होता है. इससे आपके पौधे बहुत अच्छे से बढ़ते हैं.

गुलाब की खेती में मल्चिंग प्रोसेस

इसके बाद गुलाब के पौधों के साथ में कुछ अतिरिक्त चीजें जैसे घास, सूखे पत्ते, धान, एवं इसी तरह की और चीजें भी उग जाती हैं जिसे आपको हटाने का कार्य करना होता है. यह कार्य मल्चिंग कहलाता है. अभी के समय में ब्लैक पोलीथिलीन या सफेद शीट का से मल्चिंग की जाती है, ताकि अच्छा रिजल्ट प्राप्त हो सके.

Small Business Ideas : ये 5 छोटे बिज़नेस आइडियाज हैं जिसमें बहुत कम निवेश करना होता है, और लाभ मिलता हैं डबल.

गुलाब की छंटाई एवं कटाई

यह सब हो जे के बाद अब बारी आती हैं गुलाब की छंटाई के कार्य की. फिर जब गुलाब के पौधे एवं फूल अच्छे से बढ़ जायें, तो इसके बाद आपको इसे काटना होता है. इसके लिए सही मौसम हल्की ठण्ड का होता है. अक्टूबर इसके लिए बिलकुल सही समय है.

गुलाब के पौधों की सुरक्षा

कई बार पौधों में विभिन्न तरह के कीड़े लग जाते हैं. आपने पौधों को इनसे बचाने के लिए आपको इसकी सुरक्षा पर विशेष ध्यान देना होता है. इसके लिए जरूरी हैं कि आप जब आप इसमें उर्वरक का छिड़काव करते हैं तो वह बेहतर एवं सही क्षमता में करें. क्योंकि इसकी ज्यादा मात्रा भी नुकसान दायक होती हैं यदि कम मात्रा होती हैं तो यह पौधों को किडन लगने से नहीं रोक पाती है.  

कम पढ़े लिखे लोगों के लिए ये 5 बेहतरीन व्यवसाय कर सकते हैं मोटी कमाई करने में अच्छी मदद.

गुलाब की खेती में लगने वाला कुल खर्च

गुलाब की खेती करने में आपको कम से कम 3 से 4 लाख रूपये तक का खर्च आता है. जिसमें जमीन किराये पर लेना, उसकी तैयारी करना, पौधे लगाने के लिए सामग्री एकत्रित करना, उर्वरक, पौधों की सुरक्षा, सिंचाई का खर्च, मजदूरी का किराया एवं पैकेजिंग मटेरियल आदि शामिल होता है.

गुलाब की खेती से होना वाला लाभ

गुलाब को जब किसान एजेंट को बेचता हैं तो उसे एक गुलाब के 3 रूपये मिलते हैं. यह किसान के उपर होता हैं कि उसे किस तरह से गुलाब में कितना चार्ज करना है. इससे किसान की कम से कम 1 से 2 लाख रूपये तक की कमाई होती है. और मुनाफा की बात करें तो गुलाब की खेती के बिज़नेस से 1 एकड़ जमीन से आप 70 से 80 हजार रूपये तक मुनाफा कमा सकते हैं.

घर के मसालों को घर पर बनाएं और कमाई कमाए लाखों रूपये प्रतिमाह.

गुलाब की खेती में जोखिम

गुलाब की खेती पूरी तरह से मिट्टी के प्रकार, मौसम, बाजार में मांग, और पौधे लगाने के तरीके पर निर्भर करती हैं. यह सब कुछ प्रकृति पर निर्भर करता हैं. इसलिए इसमें सबसे बड़ा जोखिम यही होता है. लेकिन सही समय में सही मौसम में यह करने से मुनाफा भी बहुत मिलता है.

यदि आप किसान हैं और खेती करना चाहते हैं. तो गुलाब की खेती करें. इसकी मांग बाजार में बहुत अधिक होती हैं इससे आपको बहुत फायदा मिलेगा.

FAQ

Q : गुलाब की खेती कैसे करें ?

Ans : मिट्टी एवं मौसम की स्थिति को पहचान कर उसके अनुसार खेती करें.

Q : गुलाब लगाने की विधि क्या है ?

Ans : सबसे पहले जमीन की तैयारी, फिर बुवाई, सिंचाई, उर्वरक छिड़काव, मल्चिंग, छंटाई, सुरक्षा एवं कटाई आदि.

Q : गुलाब की कटाई कब करें ?

Ans : अक्टूबर के महीने में जब हल्की ठण्ड पड़ने लगती है.

Q : गुलाब में अच्छे फूल आने के लिए कौन सा खाद डालें ?

Ans : नाइट्रोजन युक्त खाद.

Q : गुलाब की खेती में कितना खर्चा आता है ?

Ans : 3 से 4 लाख रूपये.

Q : गुलाब की खेती से कमाई कितनी होती है ?

Ans : 1 से 2 लाख रूपये.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published.