Small Investment Business : 50,000 में शुरू करें स्कूल ड्रेस का बिज़नेस, प्रतिदिन होगी 3 से 5 हजार की कमाई

स्कूल ड्रेस (यूनिफार्म) बनाने का बिज़नेस, विधि, तरीका, सिलाई, डिज़ाइन, मशीन, लागत, लाभ, लाइसेंस (School Uniform Making Business) (Machine, Dress Investment, Design, Profit, License)

आज के समय में हमारे देश में महंगाई का स्तर बहुत ही ज्यादा बढ़ चुका है और बेरोजगारी भी बहुत ज्यादा है, ऐसे में हर कोई व्यक्ति अपने खुद का व्यवसाय शुरू करने के लिए इच्छुक है. ऐसे में आप घर बैठे यूनिफॉर्म बनाने का व्यवसाय बहुत ही कम निवेश में शुरू करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. आज हम अपने इस लेख में आप सभी लोगों को स्कूल यूनिफार्म बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू करें इस विषय पर संपूर्ण रूप से और विस्तार तरीके से जानकारी प्रदान करने वाले हैं.इस महत्वपूर्ण लेख के जरिए यदि आप इस वेबसाइट को करना चाहते हैं, तो आपको कुछ आइडियाज अवश्य प्राप्त हो जाएंगे.

school uniform making business in hindi

कॉटन की शर्ट बनाने का बिज़नेस करके आप कर सकते हैं बम्पर कमाई, जानें पूरी प्रक्रिया.

स्कूल यूनिफार्म बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू करें (How to Start)

आज के समय में और आने वाले समय में हमारे देश में कपड़ों के उद्योग में काफी ज्यादा विकास होने वाला है और कई लोग कपड़ों के व्यापार से अच्छी कमाई भी कर रहे हैं. कपड़ों के व्यापार में कई तरह के व्यापार सम्मिलित है जैसे कि, महिलाओं से संबंधित कपड़ों का व्यापार, पुरुषों से संबंधित कपड़े का व्यापार एवं बच्चों से संबंधित कपड़े का व्यापार. बच्चों से संबंधित इस व्यापार में आप यूनिफॉर्म बनाने का व्यापार शुरू कर सकते हैं और यह आने वाले समय में और इस समय में काफी ज्यादा मांग में रहने वाला व्यापार है.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के व्यापार की बाजार में मांग (Market Research)

आज के समय में ज्यादातर लोग अपने बच्चे को प्राइवेट स्कूल में पढ़ाना पसंद करते हैं और प्रत्येक प्राइवेट स्कूल की यूनिफॉर्म अलग-अलग होती है. ऐसे में स्कूल में लगने वाले यूनिफॉर्म जो लोग रेडीमेड खरीदते हैं और स्कूलों में तो शनिवार और किसी विशेष दिवस पर अलग-अलग यूनिफार्म लगती है और ऐसे में आप प्रत्येक स्कूलों का यूनिफार्म बच्चों के लिए बनाने का व्यापार शुरू कर सकते हैं. आज के समय में इस व्यापार की बाजार में बहुत ही महान है और यदि कोई ऐसा व्यक्ति इस व्यापार को शुरू करता है, तो उसका व्यापार खूब चलता है.

डिटर्जेंट पाउडर बनाने के बिज़नेस से आप कर सकते हैं लाखों का करोबार, जानें क्या है प्रक्रिया.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के लिए आवश्यक रॉ मटेरियल (Raw Material)

इस पेपर को शुरू करने के लिए आपको कई सारे रंग-बिरंगे कपड़ों की आवश्यकता होगी और आप इन कपड़ों को किसी भी दुकान से थान के रूप में खरीदें, क्योंकि ऐसे में आपको कपड़े सस्ते भी मिलेंगे और आपको ज्यादा कपड़ों की आवश्यकता होगी तो यही आपके लिए काफी सही होगा. इसके अतिरिक्त आपको कैची सुई और कपड़ों के धागा एवं बटन की आवश्यकता होगी. इसे आप अपने नजदीकी बाजार से आसानी से खरीद सकते हैं.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के लिए आवश्यक मशीनरी (Machine)

इस व्यापार को शुरू करने के लिए आपको मशीनरी की आवश्यकता पड़ेगी और कपड़ों की सिलाई के लिए आप सिलाई मशीन अपने नजदीकी मार्केट से खरीद सकते हैं. आजकल अच्छी सिलाई मशीन की कीमत बाजार में 5 हजार रुपए से लेकर 16 हजार रुपए के बीच में आसानी से मिल जाएगी. और यदि आप चाहें तो इन मशीनों को इंडियामार्ट जैसी वेबसाइट की सहायता से भी ऑनलाइन आर्डर करके मंगा सकते हैं.

कम लागत में शुरू करें जूट के बैग बनाने का बिज़नेस, ज्यादा मुनाफा कमाने का बेहतरीन है अवसर.

स्कूल यूनिफार्म बनाने का तरीका (Process)

इसके लिए आपको अलग-अलग साइज के बच्चों के लिए यूनिफॉर्म बनाने हेतु कपड़ों को काटना है जैसे कि 5 वर्ष, 3 वर्ष, 2 वर्ष, 10 वर्ष के बच्चे के लिए आदि. अब इन साइज के कपड़े की यूनिफार्म को आपको सिलाई मशीन के सहायता से सील लेना है और उसके बाद आपको कपड़ों में काज, बटन करना है, इतना करने के बाद जब आपका कपड़ा तैयार हो जाए तब इसमें आपको इस्त्री करके इसे पैक कर देना है. ऐसे जब आपके पास ढेरों सारी वर्दियां तैयार हो जाए, तब आप इसे बेचने के लिए बाजार में उतार सकते हैं.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के व्यापार के लिए स्थान का चयन (Location)

इस व्यापार को आपको ऐसी जगह शुरू करना है, जहां पर लोग आसानी से पहुंचे और आप चाहें तो इसे नजदीकी स्कूल कॉलेज या फिर यूनिवर्सिटी के सामने भी खोल सकते हैं और मुनाफा कमा सकते हैं. ऐसे क्षेत्र में खुलने से बच्चों के अभिभावक की दृष्टि आपके व्यापार पर जाएगी और वह आपके यहां से ही अपने बच्चों के लिए स्कूल यूनिफॉर्म खरीदना पसंद करेंगे.

जोक्स लिखकर कमाये 20 करोड़ रूपये जानिए Bewakoof.com के मालिक की सफलता की कहानी के बारे में.

स्कूल यूनिफॉर्म बनाने के व्यापार के लिए लाइसेंस एवं पंजीकरण (License and Registration)

यदि आप इस व्यापार को किसी छोटे स्तर से शुरू करते हैं, तो आपको किसी भी प्रकार के पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होती हैं. वहीं पर यदि आप इसे एक कंपनी के रूप में शुरू करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको अपने व्यापार के कंपनी का नाम चयन करना है और उसके बाद इसे अपने नजदीकी उद्योग विभाग में पंजीकरण करवाना होगा.

स्कूल यूनिफॉर्म बनाने के व्यापार के लिए स्टाफ (Staff)

शुरुआती समय में आप अकेले या फिर एक व्यक्ति के साथ ऐसे शुरू कर सकते हैं और समय के साथ जब आपका व्यापार बड़ा हो जाता है, तब आपको इस क्षेत्र में अनुभव रखने वाले लोगों को रखने की आवश्यकता पड़ेगी, ताकि आप जल्दी से ज्यादा उत्पादन कर सके और यह सभी लोग आपको अपने नजदीकी क्षेत्र में आसानी से मिल जाएंगे. याद रहे आपको केवल अनुभवी लोगों को ही काम पर रखना है.

रिटायरमेंट के बाद यदि आप चाहते हैं कोई व्यवसाय शुरू करना तो बिना मेहनत वाले ये बिज़नेस आपके बहुत काम आ सकते हैं.

स्कूल यूनिफार्म की पैकेजिंग (Packaging)

इस व्यापार में आपको अपने व्यवसाय के नाम या फिर कंपनी के नाम से थैले बनाने हैं और उसमें यूनिफॉर्म को अपने क्लाइंट को डिलीवर करना है और यदि आप बड़े बड़े स्कूल, कॉलेज या फिर यूनिवर्सिटी में बच्चों के लिए यूनिफॉर्म बनाकर उन्हें देते हैं, तो आपको थोड़े बड़े-बड़े बॉक्स की जरूरत पड़ेगी और यह बॉक्स आप आसानी से अपने नजदीकी क्षेत्र से उपलब्ध करवा सकते हैं और आप चाहे तो इनबॉक्स में आप अपने कंपनी या फिर व्यवसाय का नाम भी प्रिंट करवा सकते हैं, ऐसे आपकी मार्केटिंग भी होगी.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के व्यापार में कुल निवेश (Investment)

यदि आप इस पेपर को छोटे स्तर से शुरू करेंगे, तो आराम से आपको इस व्यापार को चालू करने के लिए 50 हजार से 1.5 लाख रुपए की आवश्यकता पड़ सकती है और यदि यही व्यापार आप एक बड़े स्तर से शुरू करेंगे, तो आपको 5 लाख रुपए से लेकर 6 लाख रुपए के बीच निवेश करना होगा.

1 एकड़ की जमीन में गुलाब की खेती करके 2 लाख रूपये तक की कमाई कर सकते हैं, जानिए खेती करने का तरीका.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के व्यापार से लाभ (Profit)

यदि आप इस पेपर को छोटे स्तर से शुरू करते हैं, तो आप लगभग प्रत्येक दिन 500 रुपए से लेकर दो हजारों रुपए के बीच आसानी से कमा सकते हैं और यही व्यवसाय अगर बड़े स्तर पर है, तो आसानी से आप हर दिन 3 से 5 हजार रुपए की इनकम कर सकते हैं.

स्कूल यूनिफार्म बनाने के व्यापार की मार्केटिंग (Marketing)

इसके लिए आपको स्कूल के प्रबंधक से संपर्क करना है और अगर आप निवेश नहीं कर सकते तो उन्हें बताइए कि आप उन्हें अच्छी क्वालिटी के कपड़े थोड़े कम दाम में उपलब्ध करवाएंगे और ऐसे में हुए आपको हो सकता है, ऑर्डर भी प्रदान करें. आप जिस बॉक्स का पैकेज में अपने यूनिफॉर्म को डिलीवर करते हैं उसमें आपको अपने व्यवसाय का नाम या कंपनी का नाम एड्रेस आदि को भी प्रिंट करवाना है, ताकि लोग आपके यहां पहुंचे. आप चाहे तो टेंप्लेट आदि भी छपवा कर स्कूल, यूनिवर्सिटी, कॉलेज में वितरित कर सकते हैं और उनके सामने पोस्टर आदि लगाकर अपने व्यवसाय की मार्केटिंग कर सकते हैं.

सीएससी डिजिटल सेवा केंद्र : सरकार कर रही हैं ये केंद्र खोलने के सहायता, करें लाखों की कमाई.

स्कूल यूनिफार्म के व्यापार में जोखिम (Risk)

यह एक ऐसा व्यापार है, जो हमेशा चलता रहेगा और इसकी मांग आने वाले समय में भी बढ़ने वाली हैं इसलिए इस व्यापार में जोखिम की संभावना बिल्कुल ना के बराबर है. यदि आप इस व्यापार में बिल्कुल भी जोखिम नहीं उठा सकते हैं, तो आपको इसे एक छोटे स्तर पर शुरू करना है और फिर धीरे-धीरे बड़ा करते जाना है, ऐसे आपका जोखिम भी कम है और समय आने पर मुनाफा भी ज्यादा होगा.

FAQ

Q : स्कूल यूनिफार्म के व्यापार को हम कहां से शुरू करें ?

Ans : स्कूल यूनिवर्सिटी कॉलेज या फिर भीड़भाड़ वाली जगह पर.

Q : स्कूल यूनिफार्म के व्यापार को क्या पंजीकृत करवाना जरुरी है ?

Ans : छोटे स्तर पर है, तो नहीं, बड़े स्तर पर है, तो हां.

Q : क्या आज के समय में स्कूल यूनिफार्म के व्यापार शुरू करके लाभ कमा सकते हैं ?

Ans : जी हां, क्योंकि आज के समय का यह सबसे मांग में रहने वाला व्यवसाय है.

Q : स्कूल यूनिफार्म के व्यापार को शुरू करने के लिए हमें क्या करना होगा ?

Ans : हमें मशीनरी की सहायता से अलग-अलग स्कूल ड्रेस को बनाना है और इसे बेचना है.

Q : स्कूल यूनिफार्म बनाने के व्यापार को शुरू करने के लिए कितना निवेश करना होगा ?

Ans : छोटे स्तर पर 50 हजार रुपए से लेकर 1.5 लाख रुपए तक और बड़े स्तर पर 5 से 6 लाख रुपए के बीच.

Q : स्कूल यूनिफार्म के व्यापार को शुरू करके हम कितना कमा सकते हैं ?

Ans : इस व्यापार से हम हर महीने 35 से 50 हजार रुपए की इनकम आसानी से कर सकते हैं.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *