सिलाई (टेलरिंग) का व्यवसाय कैसे शुरू करें | Tailoring Business in Hindi

सिलाई (टेलरिंग) का व्यवसाय, मशीन, कोर्स, जॉब, मुनाफा, लागत (Tailoring Business Ideas, Material, Plan, Proposal, Names, Loan, Machinery, Cost, Profit Margin, Earning in Hindi)

आज कल गृह उद्योग का ट्रेड़ काफी बढ़ रहा है. इन गृह उद्योगों मे कुछ उद्योग ऐसे भी है जिससे की आप हर महीने हजारों लाखों रूपये कमा सकते है. आजकल कपड़ो से जुडे भी कई गृह उद्योग चर्चा मे रहते है. आपको एक ऐसे ही व्यवसाय के बारे में बताने जा रहे है जिससे आप आसानी से हजारों रुपये कमा सकते है. इस गृह उद्योग मे कपडे सीलाई कर कमा सकते है पैसे.

tailoring business in hindi

सिलाई व्यवसाय में स्कोप (Tailoring Business Scope)

आज के समय में फैशन की बात करे तो हम अपने आसपास लोगों को उनके कपड़े व उनके स्टाइल से पहचानते है. लोगों को उनके फैशन से पहचानना हमारी एक आदत बन गई है. आप ने बाजारों, गलियों में देखा होगा कि लोग रंग, बिरंगे कपड़े पहने हुए दिखते है. यह कला भारत देश में ही देखी जाती है. फैशन के मामले में देखें तो भारत में कई रंग बिरंगे और काफी ज्यादा विविधताएं देखने को मिलती है. भारतीय बाजारों मे फैशन डिजाइनर की मांग ने कपडे सिलाई की डिमांड को काफी बढ़ा दिया है. ऐसे में अगर आप कपड़े सिलाई का काम अभी से ही करते  शुरू करते है तो आपके लिए यह काफी फायदेमंद हो सकता है. हमारे इस लेख मे आपको इसी के बारे मे बताया गया है, इस पोस्ट को पढ़ कर इस प्रोसेस को फोलो जरूर करें. 

सिलाई कढ़ाई का कार्य कैसे करे (How to Start Tailoring Business)

किसी भी कार्य को सफल बनाने के लिए एक अच्छी योजना को होना जरूरी होता है. अगर आपके पास एक अच्छी योजना हो तो आपको इससे काफी अच्छा लाभ मिलता है. अगर आप दर्जी का व्यवसाय करते है तो उसके लिए भी एक अच्छी योजना को होना जरूरी है. व्यवस्थित तरीके से योजना बनाना काफी महत्वपूर्ण है. आप इन निम्न कुछ चरणों से अपने व्यवसाय को आरंभ कर सकते है. 

  • प्रशिक्षण और शिक्षा – सिलाई का कार्य न केवल एक व्यवसाय है बल्कि यह एक कला भी है. इस व्यवसाय को करने के लिए आपके पास सही और उचित प्रशिक्षण होना चाहिए. इस कार्य या व्यवसाय को आरंभ करने से पहले आप इस व्यवसाय से संबंधित पूरा प्रशिक्षण जरूर लेवें. अगर आप सिलाई कढ़ाई का कार्य ऑनलाइन देखना चाहते है तो यह कार्य भी आप कर सकते है और नहीं तो आप किसी भी व्यवसायी से इस व्यवसाय के बारे में सीख सकते है. अगर आप सर्च इंजन गूगल का उपयोग करते है तो आपको एक कीवर्ड मे हजारों साईट्स मिल जाएगी जिससे आप सिलाई कढ़ाई का कार्य सीख सकते है. यूटयूब के माध्यम से भी आप इस व्यवसाय के बारे मे घर बैठे सीख सकते है. बेहतर प्रशिक्षण ही आपके कार्य को सफल बनाता है. 
  • इस व्यवसाय से जुड़ी आवश्यक चीजों की लिस्ट बनायें – कार्य की योजना बनाने के लिए यह जरूरी है की अपने व्यवसाय से जुड़ी आवश्यक और जरूरी चीजों की लिस्ट जरूर बनाने. अगर आपके इन सब चीजों की जानकारी होगी तो आप अपने व्यवसाय की रूपरेखा आसानी से बना सकते है. व्यवसाय को आरंभ करने से पहले इन सब की जानकारी बेहद तरूरी है ताकि भविष्य मे कोई समस्या न हो. आवश्यक चीजों की सूची बनाकर उन चीजों की पूर्ति करने की कोशिश करें. 
  • बाजार की मांग को समझे और उसके अनुसार कार्य करें तो आपका व्यवसाय असफल होने से बच सकता है और आपके काम को काफी ज्यादा ख्याति मिलेगी. 

सिलाई व्यवसाय के प्रकार (Tailoring Business Types)

सिलाई के कार्य को करने के कई प्रकार है. आप किस प्रकार के कपड़ों की सिलाई करते है यह इस बात पर निर्भर करता है की आपको किस प्रकार का कार्य अपने आस पास मिलता है. आप कुछ इन प्रकार की सिलाई के कार्यों को कर सकते है. 

  • फैशन वाले कपड़े की सिलाई – आपके पास कोई ऐसी दूकान या फैक्ट्री है जो समय के साथ बदलती मांग के अनुसार नई – नई डिजाइन के कपडे बनाते है तो आप भी इस प्रकार के कपड़ो का कार्य कर सकते है. इस प्रकार मे आप अपने अनुसार बदलते ट्रेंड के साथ कपड़ो की डिजाइन व फैशन के अनुसार भी कार्य कर सकते है. आप नये – नये जिंस व शर्ट बना सकते है. 
  • बैंग की सिलाई – अगर आपको बैग बनाना पसंद है तो आप बैंग की सिलाई और कढ़ाई कर के भी अपने व्यवयसाय को आरम्भ कर सकते है. आज के समय मे नये – नये फैशन वाले बैग की काफी डिमांड बढ़ रही है. आप भी इन मांगों के अनुसार बैग की सिलाई करके और नये – नये प्रकार के बैग बनाकर अपने व्यवसाय को एक नया आयाम दे सकते है. 
  • औरतों के लिए कपड़े बनाना – आज के समय मे महिलाएं जितने कपड़े खरीदती है उतने तो पुरूष भी नही खरीदते है. अगर आपके पास महिलाओं के कपडे बनाने की विशेष कलां है तो आप इस प्रकार के कपड़ों की सिलाई कर सकते है और उन्हे बाजारों मे बेच सकते है. 

सिलाई व्यवसाय  में बाजार की मांग कैसे पता करें (Market Research) 

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले बाजार की रिसर्च यानी Market Depth research  करना बेहद जरूरी होता है. आजकल लोग किस तरह के कपड़े पहनना पसंद करते है, किस प्रकार की डिजाईन व स्टाइल के कपडे पहनना पसंद करते है. इस सब चीजों के बारे मे पता करते के बाद ही आप एक अच्छे व्यवसाय का शुभारम्भ कर सकते है. बाजार की मांग तो पता करने के लिए आप दो चीजों का सहारा ले सकते है. पहला बाजार का माहौल देख कर, इसके लिए आपको स्वयं का बाजार में घूमना होता है और यह पता करना होता है की दुकानों पर किस प्रकार की चीजें ज्यादा बिकती है और किस प्रकार की डिजाइन बाजार के चर्चाओं मे रहती है.

दूसरा इंटरनेट के माध्यम से, इंटरनेट की सहायता से आपको यह पता लगाना होता है की बाजार मे वास्तव क्या मांग है और इंटरनेट की दुनिया मे किस प्रकार के कपड़े और किस प्रकार की डिजाइन को ज्यादा महत्व दिया जा रहा है. इसके बाद आप एक अच्छा व्यवसाय आरंभ कर सकते है. 

एक अच्छे व्यवसाय के लिए Market Depth Research करना बेहद जरूरी होता है. 

सिलाई व्यवसाय शुरू करने के लिए राॅ मटेरियल (Raw Material)

सिलाई व कढाई के व्यवसाय को करने के लिए सिलाई मशीन की आवश्यकता होती है जिसे आप अपने आसपास के बाजार से खरीद सकते हैै. सिलाई मशीन को खरीदने के लिए आपको कम से कम 5000 रूपयें तक खर्च करने पड़ सकते है. सिलाई मशीन के साथ – साथ अलग – अलग रंग के धागे व अलग – अलग साइज की सुइयों की भी आवश्यकता होता है जिसे आप बाजार से खरीद सकते है. 

सिलाई व्यवसाय के लिए कच्चा माल कहा से मिलेगा (Where to Buy)

सिलाई के व्यवसाय में सबसे जरूरी चीज होती है कच्चा माल, की यह कहां से मिलेगा ? अगर आप इस व्यवसाय मे नये है तो शुरूआती समय मे आपको थोडा सा ज्यादा प्रयास करना पड़ेगा.

अगर आपके आसपास कोई फैक्ट्री है तो आप उनसे संपर्क करके कच्चे माल ले सकते है तो उन्हे सिलाई व कढाई कर के दे सकते है जिसके बदले में वे आपको रूपये देते है और वही आपकी कमाई होती है. अगर आप किसी फैक्ट्री मे नही जाना चाहते है तो आप अपने घर पर सिलाई का कार्य कर सकते है तो अपने आसपास के लोगो के कपड़ों की सिलाई कर के भी पैसे कमा सकते है. 

सिलाई व्यवसाय को शुरू करने के लिए आवश्यक मशीनरी (Machinery)

किसी भी कार्य करने के लिए कम से कम मशीनरी की आवश्यकता तो होती ही है. इसी प्रकार सिलाई का कार्य करने के भी कपड़े सिलाई की मशीन की भी आवश्यकता होती है. इस मशीन को खरीदने में आपको कुछ ज्यादा निवेश करने की आवश्यकता नहीं होती है. आप 5000 के सामान्य निवेश से कपड़े सिलाई की मशीन व आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी कर सकते है. 

सिलाई व्यवसाय के लिए स्थान का चुनाव (Location)

शुरुआती समय में इस बात की समस्या तो रहती ही है की किस स्थान पर अपने कार्य का श्रीगणेश करें. अगर आप भी इस बात को लेकर असमंजस में है तो आपको इसके लिए पहले बाजार की मांग के बारे में समझना होगा. बाजार की मांग को समझने के बाद आपको इस बात का पता चलेगा की आपको किस स्थान पर अपने व्यवसाय का शुभारम्भ करना चाहिए. 

अगर आप किसी शहरी क्षेत्र से हैं तो आपको के लिए कोई बडी समस्या नहीं है, अगर आप ग्रामीण क्षेत्र से है तो आपको इस बात का चुनाव करना बेहद जरूरी होगा कि आप किस स्थान पर अपने व्यवसाय को आरंभ करें. 

अगर आप किसी गांव में कार्य का शुभारंभ करते है तो आपके पास हो सकता है की ग्राहक कम हो परन्तु आप किसी शहरी क्षेत्र में इस प्रकार के व्यवसाय को शुरू करते है तो आपको ग्राहक भी ज्यादा मिलने की संभावनाएं रहती है. 

सिलाई व्यवसाय हेतु विशेष लाइसेंस (License)

सामान्यतः सिलाई व्यवसाय घरेलू व्यवसाय में आता है अगर आप छोटे स्तर पर यह कार्य करते है तो उसके लिए आपको किसी विशेष लाईसेंस की आवश्यकता नहीं होती है. अगर आप किसी बड़े स्तर पर यानी कोई बड़ी फैक्ट्री से अपने व्यवसाय का शुभारंभ करते है तो उस स्थिति में आपको लाइसेंस की आवश्यकता होती है जिसे आप अपने नजदीकी रोजगार व उद्योग कार्यालय से प्राप्त कर सकते है. 

अगर आप किसी विशेष प्रकार की डिजाइन बनाने में उस्ताद है तो आपको अपने व्यवसाय का रजिस्ट्रेशन जरूर करवा लेना चाहिए ताकि आपके व्यवसाय की साख आपकी डिजाइन को कोई चुरा नहीं सके. 

सिलाई व्यवसाय के लिए कर्मचारियों की आवश्यकता (Staff Requirement)

कर्मचारियों की आवश्यकता व्यवसाय के आधार पर होती है अगर आपका व्यवसाय छोटे स्तर का है तो उसके लिए कम से कम 2 कर्मचारियों की आवश्यकता तो होती ही है. अगर व्यवसाय का स्तर बडा है तो उसके लिए हो सकता है की कम से कम 10 और अधिकतम 100 या उससे भी अधिक कर्मचारियों की आवश्यकता हो. कर्मचारियों की मांग काम के आधार पर होती है. आजकल तो काम मशीनरी पर ज्यादा होता है इसलिए कर्मचारियों की आवश्यकता कम ही होती है. 

कपड़ा तैयार होने के बाद पैकिंग का कार्य (Packaging)

आपने व्यवसाय शुरू तो कर दिया और उसके बाद कपड़ो की सिलाई भी कर दी परन्तु अब सबसे बडी आवश्यकता होती है कपड़ो की पैकिंग. पैकिंग करने के लिए आप प्लास्टिक की थैलिया बनवा सकते है और उन प्लास्टिक की थैलियों मे उन कपडों का पैक कर सकते है. इसमे एक बात का विशेष तौर पर ख्याल रखें की हर पैकिंग पर आपके व्यवसाय को लेबल जरूर लगा हो ताकि आपको ज्यादा से ज्यादा ग्राहक मिल सकें. पैकिंग करने के बाद आप उन सामान / कपड़ों को ग्राहकों की मांग के अनुसार भेज सकते है. 

सिलाई व्यवसाय में निवेश की आवश्यकता (Investment)

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले हमें इस बात का ख्याल करना पड़ता है की इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए हमें कितना निवेश करने की आवश्यकता होगी. अगर आप सिलाई के व्यवसाय को छोटे स्तर से शुरू करते है तो इस व्यवसाय को आप 5000 तक के निवेश से चालू कर सकते है और अगर आपका प्लान किसी बड़े स्तर के व्यवसाय का है तो इसमें आपको कम से कम 1,00,000 तक का खर्च लग सकता है. 

सिलाई व्यवसाय में कमाई एवं मुनाफा (Earning and Profit)

किसी भी व्यवसाय की कमाई इस बात पर निर्भर करती है कि आप किस स्तर का व्यवसाय करते है, उस व्यवसाय में कितना निवेश करते है और इस बात पर भी निर्भर करता है की आपके व्यवसाय से आप कितना काम करते है. सामान्यतः सिलाई के व्यवसाय में हर कपड़े की सिलाई पर तकरीबन 50 प्रतिशत तक का मुनाफा रहता है. 

सिलाई के व्यवसाय में अगर आप एक महीने का 50,000 निवेश करते है तो उससे आपको तकरीबन 20,000 तक की कमाई तो होती ही है, यह निश्चित है. 

सिलाई व्यवसाय का कैसे करे प्रचार प्रसार (Marketing) 

किसी भी व्यवसाय को बढ़ाने के लिए उसका प्रसार प्रचार करना काफी जरूरी होता है. सिलाई व्यवसाय मे आपके द्वारा बनाये गये प्रोडक्ट व डिजाइन के प्रचार के लिए आप सोशल मिडिया का इस्तेमाल कर सकते है. आज के जमानें मे इंटरनेट पर प्रसार – प्रचार काफी महत्वपूर्ण योगदान निभाता है. अगर आपका व्यवसाय घरेलू या छोटे स्तर का है तो उस स्थिति में आप पम्पलेट व बैनर छपवा कर भी प्रसार – प्रचार कर सकते है. 

सिलाई व्यवसाय में जोखिम (Risk)

किसी भी काम को करने के जोखिम सबसे ज्यादा होता है. अगर आप किसी भी व्यवसाय को छोटे स्तर से शुरू करें या बडे स्तर से शुरू करें, हर काम में रिस्क तो होता ही है. इसी तरह सिलाई के काम में भी रिस्क रहती है. इस काम में हालांकि जोखिम कम होता है परन्तु यह काम भी जोखिम में अछूता नहीं है. सिलाई के काम में 50 प्रतिशत तक का प्रॉफिट होता है तो इसमें 30 प्रतिशत तक का जोखिम भी रहता है. 

अगर इस प्रकार के व्यवसाय के बारे मे एक बार कमाई के तौर पर देखा जाए तो इस प्रकार के व्यवसाय आज के समय में बाजार मे धूम मचा रहे है. अगर आपकी इस व्यवसाय में काफी अच्छी Skill है तो आप इससे अच्छा खासा पैसा बना सकते है. इस प्रकार के व्यवसाय को शुरू करने से पहले इन व्यवसाय में निपुण होना जरूरी है यदि आप इस प्रकार के व्यवसाय में निपुण नहीं है तो आपके काफी चांस होंगे की लोग या महिलाएं कपड़े खरीदे. इस प्रकार के व्यवसायों में सफल होना है तो आपको बाजार की मांग व फैशन के अनुसार चलना होता है. 

इस लेख में आपको सिलाई व कढाई के घरेलू व्यवसाय के बारे में बताया गया है. उम्मीद करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा. आप अपने सुझाव हमें नीचे कमेंट करके बता सकते है. 

FAQ

Q :  सिलाई व्यवसाय करने में शुरुआती समय मे कितना निवेश करना होता है ?

Ans : कम से कम 5000 तक का निवेश करना पड़ सकता है. 

Q : सिलाई व्यवसाय करने के लिए क्या लाइसेंस की जरूरत होती है ?

Ans : अगर आपका व्यवसाय घरेलू या छोटे स्तर का है तो उसके लिए आपको लाईसेंस की जरूरत नही होती है अगर आपका व्यवसाय बड़े स्तर का है तो उस स्थिति मे आप सिलाई के कार्य का लाईसेंस या सर्टिफिकेट ले सकते है जिससे आपकी डिजाईन को कोई चुरा नही सके. 

Q : सिलाई व्यवसाय करने में कितना लाभ होता है ?

Ans : कम से कम 50 % तक का मुनाफा होता है.

Q : सिलाई व्यवसाय करने में मशीनरी कहाँ से लें ?

Ans : सरकार ने इसके लिए एक योजना बनाई है जिसमें आवेदन करके आप मशीन ले सकते हैं.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published.